कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी यूपी के अमेठी और केरल के वायनाड दो जगहों से लोकसभा का चुनाव लड़ रहे हैं. 2014 के चुनाव में राहुल गांधी को जोरदार टक्कर देने के बावजूद हार का सामना करने वाली स्मृति ईरानी आरोप लगाती रही हैं कि राहुल गांधी अमेठी में वक्त नहीं देते. स्मृति ईरानी यह भी कहती रही हैं के उनके डर से राहुल गांधी वायनाड से चुनाव लड़ रहे हैं. अमेठी में राहुल को खतरा महसूस हो रहा है.

गुरुवार को राहुल गांधी जहां वायनाड में थे, वहीं स्मृति ईरानी अमेठी पहुंच गईं. स्मृति ईरानी कहती रही हैं कि हारने के बावजूद वह क्षेत्र में जमी रहीं. अब सवाल उठता है कि अमेठी के वोटर्स का किसने कितना ख्याल रखा, कौन कितनी बार क्षेत्र में आया और वोटर्स से मुलाकात की. इंडिया टुडे टीवी के मुताबिक, बीते 5 साल में स्मृति ईरानी से 14 बार अधिक राहुल गांधी ने अमेठी का दौरा किया.

भाजपा और कांग्रेस से इंडिया टुडे को जो जानकारी मिली है उसके मुताबिक, स्मृति ईरानी ने पिछले 5 साल में 21 बार अमेठी का दौरा किया और राहुल गांधी ने अमेठी का 35 बार दौरा किया. स्मृति ईरानी पिछले 5 वर्षों में 26 दिनों तक अमेठी में रहीं और 106 राजनीतिक प्रोग्राम किए.

 

ट्विटर पर स्मृति ईरानी आगे 

अप्रैल 2015 से 2019 के बीच स्मृति ईरानी ने अमेठी का उल्लेख करते हुए 202 ट्वीट किए, जबकि राहुल ने केवल 28 ट्वीट किए. 2019 के चुनावी साल में स्मृति ईरानी ने अमेठी को लेकर 39 ट्वीट पोस्ट किए हैं, जबकि राहुल गांधी ने अमेठी का सिर्फ एक बार उल्लेख किया है.

स्मृति ने राहुल गांधी पर लगाए कई आरोप

बीते दिनों स्मृति ईरानी ने कहा था कि कांग्रेस की तीन पीढ़ियों ने अमेठी के लोगों से सिर्फ वादे किए और उन्हें सपने दिखाए, बदले में सिर्फ धोखा दिया. 2014 के चुनाव में जब स्मृति ईरानी मैदान में थीं तो उन्होंने राहुल गांधी पर कई गंभीर आरोप लगाए थे.

2015 में एक रैली के दौरान स्मृति ईरानी ने गांधी परिवार पर जमीन हथियाने का आरोप लगाया था. उन्‍होंने यह भी आरोप लगाया कि यहां लगभग 30 साल पहले सम्राट साइकिल्स की फैक्‍ट्री के लिए  65.57 एकड़ जमीन ली गई थी. बाद में यह जमीन सोनिया गांधी की अध्‍यक्षता वाले राजीव गांधी ट्रस्‍ट के नाम कर दी गई है.

अमेठी से 2014 में हारी थीं स्मृति ईरानी, इस बार फिर हैं प्रत्याशी

गौरतलब है कि राहुल गांधी ने अमेठी से लगातार 3 बार सांसद चुने जा चुके हैं. 2004 में उन्होंने पहली बार यहां से जीत हासिल की थी. इसके बाद 2009 और 2014 में भी उन्होंने जीत का सिलसिला जारी रखा. 2014 लोकसभा चुनाव में मोदी लहर के बीच राहुल गांधी ने अमेठी सीट पर बीजेपी की स्मृति ईरानी को एक लाख से ज्यादा वोटों से हराया था. हालांकि मोदी सरकार उन्हें महत्वपूर्ण मंत्रालय सौंपे गए. फिलहाल वह राज्यसभा सांसद हैं. 2019 में अमेठी सीट से स्मृति ईरानी फिर से मैदान में हैं.