नई दिल्ली: खान-पान के मामले में समाज मुख्य रूप से तीन हिस्सों बंटा है. वेजीटेरियन, नॉन वेजिटेरियन और एगेटेरियन. शहरी कल्चर में रह रहे कुछ लोग अंडे को वेज कैटेगरी में मानते हैं. हालांकि ग्रामीण परिवेश से आकर शहरों में बसे लोग अभी भी अंडे (Egg) को वेज मानने को तैयार नहीं हैं. डॉक्टर्स प्रोटीन की आपूर्ति के लिए लोगों को अंडे खाने की सलाह देते हैं, लेकिन पूरी तरह से वेजीटेरियन लोग सलाह को नहीं अपनाते हैं. ऐसे लोगों की समस्या को दूर करने के लिए बहुत जल्द बाजार में वेजीटेरियन अंडा लाया जा रहा है. दरअसल, यह कोई अंडा नहीं होगा बल्कि यह एक ऐसा पदार्थ होगा जो अंडा खाने से मिलने वाले फायदे बॉडी में आपूर्ति करेगा.
अंडा ना खाने वाले लोगों के लिए एक बड़ी कंपनी ने लिक्विड एग सब्सिट्यूट लॉन्च किया कर चुकी है. यह पूरी तरह से मूंग की दाल (Mung Beans) से बना हुआ है. कंपनी इसे इसी साल भारतीय बाजार में उतार सकती है. कंपनी का दावा है कि अंडे के विकल्प के रूप में लांच इस प्रोडक्ट को अमेरिका में काफी अच्छा रिस्पांस मिला है. उम्मीद है कि भारतीय वेजीटेरियन लोग भी इसे आजमाने में परहेज नहीं करेंगे.
यहां आपको बता दें कि मौजूदा वक्त में बॉडी में प्रोटीन की आपूर्ति के लिए अंडा सबसे सरल और सस्ता खाद्य पदार्थ है. डॉक्टर्स बताते हैं कि यूं तो प्रोटीन के लिए सोयाबीन, दूध, मटर आदि कई विकल्प हैं, लेकिन इसे खाना उतना सुलभ नहीं है. जबकि अंडा खाना बेहद सुलभ है. साथ ही इन चीजों के दाम भी अंडा के मुकाबले ज्यादा हैं. साथ ही अंडे का कई रूप में प्रयोग करके खाया जा सकता है. उदाहरण के तौर पर अंडा उबालकर, ऑमलेट बनाकर, दूध में डालकर, केक, एग रोल आदि कई रूप में खाया जा सकता है. जबकि अन्य दूसरे विकल्प के साथ ऐसा नहीं है.