आजकल की लाइफस्टाइल में जॉब और घर-परिवार के बीच संतुलन बनाना मुश्किल हो चला है। दोनों प्लेटफॉर्म्स पर खुद को साबित करने का दबाव तेजी से बढ़ रहा है। क्या आपने कभी सोचा है कि इस वर्कलोड के कारण पैदा होनेवाला तनाव आपकी सेक्स लाइफ को प्रभावित कर रहा है? जी हां, घर का हो या ऑफिस काम का अतिरिक्त दबाव हमारी बेडरूम लाइफ के लिए अच्छा नहीं है। तनाव शरीर को बहुत बुरी तरह प्रभावित करता है। यह आपकी शारीरिक क्षमता, भावनात्मक संतुलन और फिजिकल-मेंटल हेल्थ पर असर डालता है। खास बात यह है कि कई बार हम जितना तनाव महसूस कर रहे होते हैं, असल में वह इससे कहीं अधिक होता है। यहां पांच तरीके बताए गए हैं, जिनके जरिए तनाव आपकी सेक्स लाइफ को प्रभावित कर सकता हैं... 
हॉर्मोन्स की गड़बड़ी 
तनाव के कारण निर्मित हॉर्मोन हमारे डाइजेशन को प्रभावित कर सकते हैं। इससे हम खुद को सुस्त महसूस करते हैं और हमारा वेट तेजी से बढ़ने या घटने लगता है। इससे अपने लुक्स को लेकर हमारा आत्मविश्वास डगमगाने लगता है। यदि हम अपने शरीर को पसंद नहीं करते हैं, ऐसे में पूरे आत्मविश्वास के साथ बेड पर प्ले नहीं कर पाते हैं और अपने साथ-साथ साथी का भी मूड खराब कर बैठते हैं। 

सेक्स की इच्छा न होना 
कोर्टिसोल तनाव से उत्पन्न होने वाले हार्मोन्स में से एक है। हमारे शरीर को इस हार्मोन की आवश्यकता तो होती है लेकिन कम समय के लिए और बहुत छोटी डोज के रूप में। यदि लंबे समय तक कोर्टिसोल हमारे शरीर में बड़ी मात्रा में रिलीज होता है तो यह हमारे सेक्स हॉर्मोन को दबा देता है। इससे सेक्स करने की इच्छा खत्म होने लगती है। 
तनाव से खराब होते रिश्ते 
जब हम तनावग्रस्त होते हैं तो अपने आस-पास की चीजों को उस रूप में महसूस नहीं कर पाते, जिस रूप में वे होती हैं। अपने मेंटल डिस्टर्बेंस के कारण हम अपने साथी की इच्छाओं और उसके इशारों को भी नहीं समझ पाते हैं। इससे अपने उदासीन व्यवहार के कारण हम उन प्यार के पलों में भी अपने साथी को निराशा की तरफ धकेलते हैं। यहीं से बेडरूम रिलेशनशिप में दरार आनी शुरू हो जाती है। 

जरूरत से ज्यादा पीना शुरू कर सकते हैं 
इसमें कोई हैरानी की बात नहीं है कि हमारे समाज में अधिकांश लोग अल्कोहल का यूज इसलिए करते हैं ताकि वे वास्तविक परिस्थितियों से भाग सकें। साथ ही नशे की हालत में ही सही अपने लिए कुछ हैपी ऑवर्स क्रिएट कर सकें। इस कारण कई बार लोग अल्कोहल का अधिक सेवन शुरू कर देते हैं। इससे सेक्स लाइफ पर नेगेटिव असर पड़ता है और बेडरूम में परफॉर्मेंस घटने लगती है। खासतौर से पुरुषों में जल्द इजेक्यूलेशन की समस्या हो जाती है।

फर्टिलिटी और मेन्स्ट्रुअल साइकिल पर असर 
जैसा कि हम पहले बता चुके हैं कि स्ट्रैस के कारण सेक्स करने की इच्छा पर असर पड़ता है लेकिन यह भी सच है कि स्ट्रैस के कारण फर्टिलिटी भी प्रभावित होती है। पुरुषों में जहां इजेक्यूलेशन जल्दी होने लगता है तो महिलाओं को कंसीव करने में समस्या होती है। वहीं, महिलाओं में स्ट्रैस का एक और खराब प्रभाव देखने को मिलता है और वह है उनके मेन्स्ट्रुअल साइकिल में होने वाला डिस्टर्बेन्स। इस कारण कई दूसरी परेशानियां उन्हें घेर लेती हैं और सेक्स में अरुचि होने लगती है।