बिलासपुर । सिम्स मेडिकल कालेज की सीटों की मान्यता को लेकर एवं फैकल्टी की जांच करने आज अचानक एमसीआई की टीम निरीक्षण करने पहुंची। टीम के सदसयों ने फैकल्टी के अलावा पढ़ाई की गुणवत्ता, संसाधन, प्रोफेसरों के सर्टिफिकेटों की भी जांच की। तीन सदस्यीय टीम के पहुंंचते ही सिम्स में आज हडक़ंप मचा रहा। छत्तीसगढ़ आयुर्विज्ञान संस्थान सिम्स में आज मेडिकल काउंसिल आफॅ इंडिया की तीन सदस्यीय टीम ने सिम्स मेडिकल कालेज की एमबीबीएस की 150 सीटों की फैकल्टी व छात्रों की पढ़ाई की गुणवत्ता के निरीक्षण के लिए पहुंची। जहां टीम के पहुंचते ही सिम्स में हडक़ंप मच गया। सिम्स में आज मेडिकल काउंसिल आफॅ इंडिया की तीन सदस्यीय टीम के डा.एस.एस.चटर्जी, डा.एच.एल.मीना, डा.सी.वी.शारदा ने अलग-अलग विभागों में जाकर सिम्स का निरीक्षण किया। टीम के सदस्यों ने सिम्स के विभागावार सिम्स मेडिकल कालेज का जायजा लिया। एमसीआई की टीम ने आज सिम्स में एमबीबीएस की 150 सीटों के पढ़ाई गुणवत्ता व फैकल्टी की सुविधा को देखा। टीम ने सिम्स मेडिकल कालेज में फैकल्टी प्रोफेसरों की भी जानकारी ली। तथा सभी विभागों के डाक्टरों के सर्टिफिकेट भी चेक किया। देर शाम तक सिम्स मेडिकल कालेज में एमसीआई की टीम संसाधनों की जांच करती रही। मालूम हो कि सिम्स में कुछ दिनों पहले ही एमसीआई की टीम पीजी सीटों के लिए निरीक्षण में पहुंची थी। जहां एमसीआई की टीम ने कम्यूनिटी मेडिसीन का जायजा लिया था। वही आज एमबीबीएस की सीटों में हुए बढ़ोत्तरी के बाद मेडिकल काउंसिल आफॅ इंडिया की टीम ने सिम्स मेडिकल कालेज में एमबीबीएस के संसाधनों का जायजा लिया। इस दौरान सिम्स के आला अधिकारी व डाक्टर सहित अन्य स्टाफ मौजूद रहे। 
गौरतलब हो कि सिम्स मेडिकल कालेज में एमबीबीएस की प्रथम वर्ष की 100 सीटे थी। सिम्स प्रबंधन द्वारा सीटे बढ़ाने के लिए प्रस्ताव भेजा गया था। जिसे एमसीआई ने बढ़ाकर 100 सीटे से 150 कर दिया था। लेकिन सिम्स मेडिकल कालेज में एमसीआई की टीम ने निरीक्षण के दौरान कई खामियां पायी थी। जिस पर 50 सीटों को घटा दिया गया था। वही कुछ सालों बाद फिर से एमसीआई की टीम ने सिम्स में एमबीबीएस की सीटे 100 से बढ़ाकर 150 कर दी थी।