नई दिल्ली । भारत और स्विट्जरलैंड के टैक्स अधिकारियों ने ऐसे ट्रस्टों (न्यासों) की पहचान की है जो टैक्स चोरी के सुरक्षित पनाहगाह वाले (टैक्स हेवन) देशों में स्थित निकायों (स्विस बैंकों जैसे) में कालाधन छिपाकर रखते हैं। ये ट्रस्ट भी अब कालेधन की जांच के दायरे में आ गए हैं। इनमें से कुछ ट्रस्ट भारतीय लोगों और कंपनियों के भी हैं। सूत्रों के अनुसार ऐसे व्यक्तियों और ट्रस्टों को स्विट्जरलैंड के कर प्राधिकरणों ने नोटिस जारी किए हैं। वहां के टैक्स अधिकारी ऐसे व्यक्तियों और ट्रस्टों के बैंक विवरण भारत के टैक्स अधिकारियों के साथ साझा कर रहे हैं, जो टैक्स चोरी कर यहां रह रहे हैं या यहां से बाहर भाग चुके हैं। सरकारी राजपत्र के अनुसार, कुछ कारोबारियों समेत ऐसे कई व्यक्तियों, केमैन आइलैंड्स स्थित ट्रस्टों और कंपनियों को कहा गया है कि यदि वे भारत के साथ बैंक विवरण साझा करने के खिलाफ अपील करना चाहते हैं तो अपना प्रतिनिधि नामित करें।