इस बार का रक्षाबंधन बहुत खास है। यह अत्‍यंत दुर्लभ संयोगों के बीच आ रहा है। इसका प्रभाव भी गहरा होगा। आगामी 3 अगस्‍त को रक्षाबंधन पर 29 वर्ष बाद शुभ संयोग बन रहा है। सबसे खास बात यह है कि 558 साल बाद सावन माह की पूर्णिमा पर गुरु और शनि अपनी राशि में वक्री रहेंगे। सोमवार 3 अगस्त को लेकर सावन माह की अंतिम तिथि पूर्णिमा है। इसी तिथि पर रक्षाबंधन मनाया जाता है। इस बार विशेष योग रक्षाबंधन पर बन रहे है सुबह 9:30 बजे तक भद्रा रहेगी। भद्रा के बाद ही बहनों को अपने भाई की कलाई पर रक्षासूत्र बांधना चाहिए। 9.30 के बाद पूरे दिन राखी बांध सकते हैं। 3 तारीख को सुबह 9.30 बजे के बाद पूरे दिन श्रवण नक्षत्र रहेगा। पूर्णिमा पर पूजन के बाद अपने गुरु का आशीर्वाद भी अवश्य लें।रक्षाबन्धन पर गुरु अपनी राशि धनु में और शनि मकर में वक्री रहेगा। इस दिन चंद्र ग्रह भी शनि के साथ मकर राशि में रहेगा। शत वर्षीय पंचांग अनुसार ऐसा योग 558 साल पहले 1462 में बना था। उस साल में 22 जुलाई को रक्षाबंधन मनाया गया था। इस बार रक्षाबंधन पर राहु मिथुन राशि में, केतु धनु राशि में है। 1462 में भी राहु-केतु की यही स्थिति थी। साथ ही श्रावण सोमवार व पूर्णिमा एक साथ होने से आनंद योग सर्वाथ सिद्ध योग श्रावण योग बन रहा है जो आज से 29 वर्ष पूर्व वर्ष 1991 में बना था इस वर्ष रक्षाबंधन पर भ्रदा का साया भी नहीं रहेगा

विधिवत प्रातः काल करे पूजा

रक्षाबंधन पर सुबह जल्दी उठ जाना चाहिए। स्नान के बाद देवी-देवताओं की पूजा करें। पितरों के लिए धूप-ध्यान करें। इन शुभ कामों के बाद पीले रेशमी वस्त्र में सरसों, केसर, चंदन, चावल, दूर्वा और अपने सामर्थ्य के अनुसार सोना या चांदी रख लें और धागा बांधकर रक्षासूत्र बना लें। इसके बाद घर के मंदिर में एक कलश की स्थापना करें। उस पर रक्षासूत्र को रखें, विधिवत पूजन करें। पूजा में हार-फूल चढ़ाएं। वस्त्र अर्पित करें, भोग लगाएं, दीपक जलाकर आरती करें। पूजन के बाद ये रक्षासूत्र को दाहिने हाथ की कलाई पर बंधवा लेना चाहिए। बहने सूखा नारियल गोला ना रखकर पानी बाला नारियल देवे

दीर्घायु आयुष्मान का शुभ संयोग

ब्राह्मण अपने यजमानो के लिए यह रक्षा सूत्र धारण कराते है व श्रावणी उपा कर्म भी करते है।इस साल सावन के आखिरी सोमवार पर रक्षाबंधन का त्योहार पड़ रहा है।स्वर्ण पदक प्राप्त ज्योतिषाचार्य डॉ पंडित गणेश शर्मा के अनुसार भाई-बहन का पवित्र त्योहार रक्षाबंधन इस बार बेहद खास होगा, क्योंकि इस साल रक्षाबंधन पर सर्वार्थ सिद्धि और दीर्घायु आयुष्मान का शुभ संयोग बन रहा है। रक्षाबंधन पर ऐसा शुभ संयोग 29 साल बाद आया है।

भाई व बहन इन बातों रखें विशेष ध्‍यान

साथ ही इस साल भद्रा और ग्रहण का साया भी रक्षाबंधन पर नहीं पड़ रहा है। जो भाई-बहन कोरोना के चलते इस बार दूर हैं, वो जल्दबाजी न करें, जहां हैं वहीं से रक्षाबंधन मनाएं। वीडियो कॉल, ऑडियो कॉल के जरिए एक दूजे को देखें, दुआएं करें, लम्बी उम्र की मनोकामना करें। इस बार श्रावणी पूर्णिमा के साथ महीने का श्रावण नक्षत्र भी पड़ रहा है, इसलिए पर्व की शुभता और बढ़ जाती है। श्रावणी नक्षत्र का संयोग पूरे दिन रहेगा।

राखी बांधने का शुभ मुहूर्त

राखी बांधने का शुभ मुहूर्त इस प्रकार रहेगा कुंभ सिंह वृश्चिक लगन में राखी बांधना शुभ रहेगा सुबह 9.30से10.30 तक दोपहर 1.30से शाम7.30 तक व रात 10.30 से 12 बजे तक राखी बांधना व बंधवाना शुभ रहेगा एवं लाभकारी।