भोपाल ।  राजधानी के सबसे पुराने सरकारी अस्पताल हमी‎दिया और जयप्रकाश अस्पताल (जेपी) के कई डॉक्टर्स एवं स्टॉफ के अन्य कर्मचारी कोरोना संक्र‎मित हो गए हैं। इससे अस्पतालों में भर्ती मरीजों के इलाज में परेशानी का सामना करना पड रहा है। जेपी अस्पताल के करीब 20 स्वास्थ्यकर्मी कोरोना से संक्रमित हो गए हैं। इनमें 8 डॉक्टर, 16 नर्स और बाकी वार्डबाय ड्रेसर व अन्य कर्मचारी हैं। इसी तरह से हमीदिया अस्पताल के 200 से ज्यादा स्वास्थ्यकर्मी संक्रमित हैं। इसमें कंसलटेंट, जूनियर डॉक्टर, नर्सिंग स्टाफ, वार्ड बॉय और अन्य कर्मचारी शामिल हैं। एम्स और दूसरे अस्पतालों का भी यही हाल है। हमीदिया अस्पताल में तो 30 गंभीर मरीजों वाले वार्ड भी एक नर्स के हवाले हैं। जेपी अस्पताल में भी ऐसी ही स्थिति है। हालांकि, एम्स में स्टाफ पर्याप्त है, इसलिए इतनी दिक्कत नहीं है। जिन स्वास्थ्यकर्मियों को अभी कोरोना हुआ है उन्हें टीका का दूसरा डोस लगे हुए कम से कम एक महीने हो चुके हैं। 95 फीसद को टीका लगा है। हालांकि अच्छी बात यह है कि इनमें से कोई भी गंभीर स्थिति में नहीं है। ज्यादातर होम आइसोलेशन में हैं। जेपी अस्पताल में कुल 64 डॉक्टरों में से 8 फिलहाल कोरोना से संक्रमित हैं। इनमें हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ केके देवपुजारी, डॉ वायपी पटेल, कोरोना वार्ड के प्रभारी मेडिसिन विशेषज्ञ डॉ योगेंद्र श्रीवास्तव, डॉ वीके दुबे भी शामिल हैं। इनके संक्रमित होने से मेडिसिन विभाग में अब सिर्फ एक डॉक्टर बचे हैं। इसी तरह से हड्डी विभाग में भी सिर्फ एक विशेषज्ञ हैं। अस्पताल में कुल 130 स्टाफ नर्स हैं। इनमें करीब 15 पहले से ही किसी न किसी कारण से छुट्टी पर थीं। 16 स्टाफ नर्स कोरोना से संक्रमित हो गई हैं। ऐसे में वार्ड में भर्ती गैर कोरोना मरीजों के इलाज में दिक्कत आती है। सिर्फ एक नर्स के भरोसे ही पूरा वार्ड रहता है। हमीदिया अस्पताल में कोरोना मरीजों के लिए 680 बिस्तर मिलाकर कुल 1347 बिस्तर हो गए हैं। लेकिन 113 स्टाफ नर्स कोरोना से फिलहाल संक्रमित हैं और छुट्टी पर हैं। कुल 667 नर्सिंग स्टाफ यहां पर है। संक्रमितों के अलावा कुछ पहले से छुट्टी पर हैं। इस वजह से वार्ड में ड्यूटी में परेशानी आ रही है। कोविड ब्लॉक 2 में 30-30 मरीजों वाले वार्ड हैं जहां सिर्फ एक नर्स की ड्यूटी लगाई जा रही है, जबकि सामान्य अन्य दिनों में दो से तीन नर्स रहती हैं। हमीदिया अस्पताल की नर्सिंग अधीक्षक रामरती यादव ने बताया कि अप्रैल के पहले हफ्ते से ही 100 से ज्यादा नर्सिंग स्टाफ संक्रमित हैं। इनमें जितने स्वस्थ होते हैं लगभग उतने ही नए संक्रमित हो जाते हैं। इसी तरह से कंसल्टेंट, जूनियर डॉक्टर और सीनियर रेजीडेंट मिलाकर करीब 80 डॉक्टर संक्रमित हैं।