नई दिल्ली. कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने फिर से पार्टी अध्यक्ष बनने के वरिष्ठ नेताओं के अनुरोध पर कहा कि वे विचार करेंगे. दरअसल, कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की शनिवार की बैठक में वरिष्ठ नेताओं ने राहुल गांधी से अपील की कि वे फिर से अध्यक्ष पद की बागडोर संभाल लें, इसके जवाब में उन्होंने कहा, “मैं विचार करूंगा.”इतना ही नहीं, कुछ नेताओं ने यह भी कहा कि चुनाव तक उन्हें कार्यकारी अध्यक्ष बनाया जाए. समाचार एजेंसी एएनआई ने अपने सूत्र के हवाले से यह जानकारी दी. बैठक के दौरान राहुल ने इस बात पर भी जोर दिया कि उन्हें पार्टी नेताओं से विचारधारा के स्तर पर स्पष्टता की जरूरत है.

सोनिया गांधी ने केंद्र सरकार पर बोला हमला
कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने सीडब्ल्यूसी की बैठक में किसान आंदोलन, लखीमपुर खीरी हिंसा, महंगाई, विदेश नीति और चीन की आक्रामकता के मुद्दों को लेकर नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधा. कांग्रेस अध्यक्ष ने आगामी विधानसभा चुनावों का उल्लेख करते हुए कहा, “हमारे सामने कई चुनौतियां आएंगी, लेकिन अगर हम एकजुट रहते हैं एवं अनुशासित रहते हैं और सिर्फ पार्टी के हित पर ध्यान केंद्रित करते हैं तो मुझे पूरा विश्वास है कि हम अच्छा करेंगे.”

सोनिया ने दिया पार्टी को मजबूत रखने का मंत्र
सोनिया गांधी ने बताया कि उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड, गोवा और मणिपुर में होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए तैयारियां आरंभ हो चुकी हैं. उन्होंने संगठानात्मक चुनाव का हवाला देते हुए कहा, “पूरा संगठन चाहता है कि कांग्रेस फिर से मजबूत हो. लेकिन इसके लिए जरूरी है कि एकजुटता हो और पार्टी के हित को सर्वोच्च रखा जाए. इन सबसे ऊपर आत्मनियंत्रण और अनुशासन की जरूरत है.”

जी 23 नेताओं पर बरसीं सोनिया गांधी
कांग्रेस अध्यक्ष ने जोर देकर कहा, “अगर आप मुझे बोलने की इजाजत दें तो मैं पूर्णकालिक और सक्रिय अध्यक्ष हूं…पिछले दो वर्षों में कई साथियों और खासकर युवा नेताओं ने नेतृत्व करने की जिम्मेदारी उठाई है और पार्टी की नीतियों को लोगों तक लेकर गए हैं.” उन्होंने जी 23 नेताओं को नसीहत देते हुए कहा, “मैंने सदा स्पष्टवादिता की सराहना की है. मुझसे मीडिया के जरिये बात करने की जरूरत नहीं है. इसलिए हम सभी यहां खुली और ईमानदार चर्चा करते हैं. लेकिन इस चहारदीवारी से बाहर जो बात जाए वो सीडब्ल्यूसी का सामूहिक फैसला होना चाहिए.”