केरल  अलप्पुझा कोरोना वायरस की दूसरी लहर से जूझ रहे भारत में इंसानियत के कई उदाहरण सामन आए हैं जिनमें लोग एक-दूसरे की मदद के लिए आगे आए हैं। ऐसा ही एक उदाहरण केरल में देखने को मिला है जहां कोरोना मरीज को दो पहिया वाहन पर बैठा कर अस्पताल में शिफ्ट किया। कोविड सेंटर में काम करने दो वॉलिन्टियर्स ने मरीज की बिगड़ती हालत देखकर उसे अस्पताल में भर्ती कराया।

यह घटना केरल के अलप्पुझा जिले के पुन्नापारा गांव की है। जहां कोविड सेंटर में काम करने वाले दो युवक बाइक पर बैठा कर कोरोना मरीज को अस्पताल तक लेकर गए. केरल के मुख्यमंत्री पिनरई विज्जयन ने भी इन नौजवानों की प्रशंसा की है उन्होंने कहा कि दो युवाओं ने तेजी से काम किया। जिसकी मैं सराहना करता हूं. उन्होंने यह भी बताया कि अब उस मरीज की हालत मे सुधार है। 

मरीज के घर में क्वारंटाइन होने के लिए जगह नहीं थी इसलिए वह कोविड सेंटर में आकर रह रहा था। जिसके बाद उसके सीने में दर्द हुआ और वह गिर पड़ा।

अश्विन कुंजुमोन और रेखा पुन्नापारा दोनों डोमेसाइल केयर सेंटर में वॉलेंटियर के रूप में काम करते हैं। शुक्रवार को जब उन्होंने मरीज को जमीन पर पड़ा देखा औक देखा कि मरीज को सांस लेने में दिक्कत हो रही थी। इस बीच उन्होंने एंबुलेंस को भी फोन किया लेकिन उसे आन में 10 से 15 मिनट का वक्त लग रहा था और इस बीच मरीज की हालत भी लगातार बिगड़ती जा रही थी।

इसके बाद दोनों मरीज को अपनी बाइक पर बैठाकर अस्पताल ले आए. बता दें कि कोविड सेंटर से अस्पताल लगभग 100 मीटर दूर था।